मोदी सरकार का आखिरी लोकलुभावन बजट पेश, विपक्ष ने बताया चुनावी घोषणापत्र

लोकसभा चुनाव २०१९ से पहले केन्द्र की नरेन्द्र मोदी सरकार ने पहले से चली आ रही परंपराओं का पालन करते हुए आज अंतरिम बजट पेश किया और लोकसभा में सत्तारूढ़ सदस्यों द्वारा च्मोदी, मोदीज् के नारों के बीच किसानों और करदाताओं को व्यापक राहत की घोषणा की। कांग्रेस और कुछ अन्य विपक्षी दलों के सदस्यों ने निचले सदन में सरकार पर अंतरिम बजट पेश होने से पहले ही इसकी जानकारियां लीक करने का आरोप लगाते हुए शोर शराबा किया। काला कुर्ता, सफेद पायजामा और काले रंग की जैकेट पहने वित्त मंत्री पीयूष गोयल ने अंतरिम बजट भाषण एक घंटे ४२ मिनट में पढ़ा और कई महत्वपूर्ण बिन्दुओं को हिन्दी में समझाया। इस दौरान सदन में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी कुर्ता, पायजामा एवं मोदी जैकेट पहने हुए थे । सदन में इस दौरान केंद्रीय
मंत्री राजनाथ सिंह, सुषमा स्वराज, नितिन गडकरी, रविशंकर प्रसाद, राधामोहन सिंह, सुरेश प्रभु, राम विलास पासवास, हरसिमरत कौर बादल समेत कई मंत्री एवं भाजपा के वरिष्ठ नेता लाल
कृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी आदि मौजूद थे। सदन में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खडगे के अलावा सपा नेता मुलायम सिंह यादव, पूर्व प्रधानमंत्री एच डी देवेगौडा, बीजद नेता भृर्तुहरि महताब, तृणमूल नेता सुदीप बंदोपाध्याय मौजूद थे। वित्त मंत्री पीयूष गोयल ने शुक्रवार को लोकसभा में २०१९..२० का अंतरिम बजट पेश किया और कहा कि यह अंतरिम बजट नहीं बल्कि देश के विकास और बदलाव की गाड़ी है। गोयल ने बजट भाषण के बाद सदन में अंतरिम बजट तथा मध्यम अवधि की राजकोषीय नीति सह वित्तीय नीति रणनीति बयान और स्थूल आर्थिक रूपरेखा बयान सदन के पटल पर रखा। इसके बाद लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने बैठक को सोमवार पूर्वाह्न ११ बजे तक के लिए स्थगित कर दिया। गोयल ने अंतरिम बजट पेश करते हुए अगले १० साल के सरकार का विजन पेश किया है। पीयूष गोयल ने जीएसटी सुधार से लेकर पूंजीगत कर, आयकर छूट, टीडीएस कटौती आदि में लोगों को राहत देने का ऐलान किया है। बजट में छोटे किसानों को साल में ६,००० रुपये का नकद समर्थन, असंगठित क्षेत्र के मजदूरों के लिये मैगा पेंशन योजना और नौकरी पेशा तबके के लिये पांच लाख
रुपये तक की वार्षिक आय को कर मुक्त करने का प्रस्ताव किया गया है। इन तीन क्षेत्रों के लिए बजट में कुल मिला कर करीब सवा लाख करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है और इससे कुल मिला करीब २५ करोड़ लोगों को फायदा होगा। बजट प्रस्ताव में प्रधान मंत्री किसान सम्मान निधि नाम से एक नयी योजना के तहत छोटे किसानों को तीन किस्तों में सालाना ६,००० रुपये की नकद सहायता देने का एलान किया। इस योजना से सरकारी खजाने पर सालाना ७५,००० करोड़ रुपये का वार्षिक बोझ पड़ेगा। यह सहायता दो हेक्टेयर से कम जोत वाले किसानों को उपलब्ध होगी। वित्त मंत्री ने कहा कि इस योजना से १२ करोड़ किसान लाभान्वित होंगे। इसके साथ ही उन्होंने असंगठित क्षेत्र के मजदूरों को सामाजिक सुरक्षा उपलब्ध कराने के लिये प्रधानमंत्री च्च्श्रम योगी मानधन योजनाज्ज् की घोषणा की गई है। इसके तहत श्रमिकों को ६० साल की आयु के बाद ३,००० रुपये मासिक पेंशन दी जायेगी। उन्होंने कहा कि योजना के तहत श्रमिकों को मासिक १०० रुपये का योगदान करना होगा। इसके साथ ही १०० रुपये की राशि सरकार की तरफ से भी दी जायेगी। इससे १० करोड़ श्रमिकों को फायदा होगा। गोयल ने मध्यम वर्ग को बड़ी राहत देते हुये उनकी पांच लाख रुपये तक की सालाना आय को कर मुक्त कर दिया। मानक कटौती को भी मौजूदा ४० हजार रुपये से बढ़ाकर ५० हजार रुपये कर दिया गया है।