रामबन जिला पुलिस की तरफ से वर्दी डालकर तस्करों की मदद करने वालों के खिलाफ कार्रवाई जारी है। वर्दी डालकर गल्त लोगों की मदद करने वाले दो और एसपीओ को नौकरी से बर्खास्त कर दिया है

पुलिस की वर्दी में तस्करों की मदद
रामबन के दो और एसपीओ बर्खास्त, अब तक छह
मवेशी तस्करों की मदद करने में शामिल पाए गए
नशा तस्करों की मदद करने में भी आया है रोल
जम्मू
रामबन जिला पुलिस की तरफ से वर्दी डालकर तस्करों की मदद करने वालों के खिलाफ कार्रवाई जारी है। वर्दी डालकर गल्त लोगों की मदद करने वाले दो और एसपीओ को नौकरी से बर्खास्त कर दिया है। उनका रोल मवेशी तस्करों की मदद करने में आया। जिसके बाद दोनों का नाम एफआईआर में भी लाया गया। उसके बाद दोनों को बर्खास्त कर दिया गया है। यह दोनों तस्करों से प्रति वाहन पैसे लेते थे। उन्हें नाकों से सेफ निकालने के लिए रकम को लिया जाता था।
जानकारी के अनुसार एसपीओ कल्याण सिंह तथा सज्जाद अहमद को नौकरी से निकाला गया है। यह दोनों गूल थाने तथा संगलदान चौकी में तैनात थे। मामला ऐसा हुआ कि जिले के धर्मकुंड तथा बटोत पुलिस ने अपने अपने इलाकों में मवेशी तस्करी के प्रयास को विफल किया था। जब तस्करों को गिरफ्तार करके पूछताछ हुई थी तो इन दोनों एसपीओ का नाम बाहर आया। पूछताछ के दौरान पता चला कि यह दोनों पुलिसकर्मी तस्करों की मदद करते थे। वाहनों को हाइवे से निकालने के लिए मोटी रकम लेते थे। उसके बाद नाके पार करवाने में मदद करते थे। जिससे की तस्कर आसानी से जिले के नाकों को पार कर कश्मीर में पहुंच जाते थे। इन दोनों एसपीओ की तस्करों के साथ काफी साठगांठ है। बड़े तस्करों से भी खूब लिंक बनाकर रखा गया है। उन्हें एक दिन पहले ही पता होता था कि कितने वाहन मवेशी लेकर आने वाले है। इसके बाद दोनों थानों ने अपनी अपनी एफआईआर में दोनों एसपीओ के नाम डाल दिए। उन्हें गिरफ्तार किया गया। उसके बाद विभागीय जांच शुरू कर दी गई। जांच के दौरान साफ हो गया कि दोनों ने मवेशी तस्करों की मदद करके मोटी कमाई की है। मकानों पर खूब पैसा खर्च किया। इसके अलावा अन्य संपति को भी बनाया गया है। लंबे समय से दोनों पुलिसकर्मी तस्करों की मदद करते आ रहे है। जांच पूरी होने के बाद अब दोनों को नौकरी से बर्खास्त कर दिया गया है। जांच के दौरान यह भी पाया गया कि दोनों नशा तस्करों की मदद भी करते थे।
बता दे कि इस तरह से इस साल अभी तक जिला एसपी रामबन ही तरफ से मवेशी तस्करों की मदद करने वाले छह एसपीओ पर कार्रवाई की जा चुकी है। मई माह में चार को इसी कारण नौकरी से निकाला गया था। वह भी तस्करों की मदद करते थे। उनकी पहचान फुलेल सिंह, अजीत सिंह, सतीश सिंह तथा मोहम्मद अयूब उर्फ मुंदरी के रूप में हुई है। इनमें एक सरेंडर आतंकी भी शामिल था।
 

सम्बंधित खबर