गौतम गंभीर के सहयोगी स्टाफ में शामिल होने को तैयार अभिषेक नायर

नई दिल्ली, 10 जुलाई (हि.स.)। भारतीय क्रिकेट टीम को कोच गौतम गंभीर के भारतीय पुरुष टीम के सहयोगी स्टाफ में राज्य क्रिकेट और इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) सहित विभिन्न स्तरों पर अपने अनुकरणीय काम के लिए जाने जाने वाले कोचिंग पेशेवर शामिल होने वाले हैं, जबकि राहुल द्रविड़ के निवर्तमान स्टाफ के कम से कम एक सदस्य को बनाए रखने की योजना बनाई जा रही है। अन्य दो पदों के लिए चयन प्रक्रिया चल रही है, लेकिन अभिषेक नायर, जो काफी समय से कोलकाता नाइट राइडर्स (केकेआर) की बैकरूम टीम का अभिन्न अंग हैं, के टीम गंभीर में शामिल होने की संभावना है।

यह कोई आश्चर्य की बात नहीं है कि गंभीर ने नायर (40) को चुना, जो भारत के पूर्व ऑलराउंडर हैं और जिन्होंने 2009 में तीन वनडे मैच खेले थे। केकेआर में दोनों के बीच मजबूत पेशेवर संबंध रहे हैं और गंभीर ऐसे साथी की तलाश में थे जो अपने काम के प्रति समर्पित और गंभीर हो। नायर इस मामले में फिट बैठते हैं और अतीत में भारतीय कप्तान रोहित शर्मा के साथ भी उनका करीबी रिश्ता रहा है। मुंबई के इस पूर्व ऑलराउंडर को विशेषज्ञ बल्लेबाजी कोच के बजाय सहायक कोच के रूप में नियुक्त किए जाने की उम्मीद है। गंभीर खुद बल्लेबाजी कोच की भूमिका निभा सकते हैं।

सूत्रों से पता चलता है कि द्रविड़ के अधीन फील्डिंग कोच के रूप में काम कर चुके टी दिलीप को बरकरार रखे जाने की संभावना है, जबकि बीसीसीआई ने मीडिया में द्रविड़ और उनकी टीम को धन्यवाद देते हुए बयान दिया था, जिसके कारण यह माना गया कि अब उनकी सेवाओं की आवश्यकता नहीं है।

गंभीर को मुख्य कोच नियुक्त करने की घोषणा करते हुए 9 जून को बीसीसीआई की विज्ञप्ति में कहा गया, बोर्ड पारस म्हाम्ब्रे (गेंदबाजी कोच), टी. दिलीप (फील्डिंग कोच) और विक्रम राठौर (बल्लेबाजी कोच) को भी उनके बेहद सफल कार्यकाल के लिए बधाई देता है। बीसीसीआई उनके योगदान को महत्व देता है और उन्हें भविष्य के लिए शुभकामनाएं देता है। लेकिन पता चला है कि दिलीप की सेवाएं बरकरार रखी जाएंगी।

गेंदबाजी कोच पद के लिए अभी कुछ भी तय नहीं हुआ है। रिपोर्टों से संकेत मिलता है कि बीसीसीआई और गंभीर, लक्ष्मीपति बालाजीए जहीर खान और विनय कुमार जैसे नामों पर विचार कर रहे हैं, जो दोनों ही केकेआर में गंभीर के साथ काम कर चुके हैं। हालांकि, बोर्ड युवा खिलाड़ियों के साथ अच्छा काम करने के सिद्ध ट्रैक रिकॉर्ड वाले उच्च-प्रोफ़ाइल उम्मीदवार की तलाश कर सकता है।

विचार यह है कि तेज गेंदबाजों की एक मजबूत बेंच स्ट्रेंथ तैयार की जाए, जो हाल के दिनों में भारतीय टीम का मजबूत पक्ष रहा है। सोच यह है कि नए गेंदबाजी कोच को तेज गेंदबाजों की युवा पीढ़ी को प्रेरित करने और उनका मार्गदर्शन करने में सक्षम होना चाहिए, जैसे कि हर्षित राणा, तुषार देशपांडे और मयंक यादव आदि। हालांकि बातचीत चल रही है, लेकिन अंतिम निर्णय नहीं लिया गया है।

हिन्दुस्थान समाचार / सुनील दुबे

   

सम्बंधित खबर